Writer's Clan

पर भारत वहीँ का वहीँ है

आज़ादी के सत्तर वर्षों बाद,
तिरंगा आज भी हर छत पर गर्व से लहरा रहा है।
अपने व्यस्त जीवन से एक दिन निकाल,
हर भारतवासी शहीदों को याद कर,
भारतमाता को शीश नवा रहा है।
कितना वक़्त गुज़र गया,
कितनी सत्ताएँ पलट गयीं,
पर उन्नीस सौ सैंतालिस से दो हज़ार सत्रह तक,
कुछ तो बदलाव आये ही होंगे न?
आज 15 अगस्त केवल स्वन्त्रता दिवस नहीं रह गया है।
कुछ के लिए यह एक छुट्टी का दिन है, national holiday.
तो कुछ के लिए झंडे बेच एक वक़्त रोटी खाने का ज़रिया।
कोई मोर्चा निकाल देशभक्ति की आड़ में अपना ही उल्लू सीधा कर रहा है,
तो कोई महज़ एक दिन के लिए उन वीर जवानों को श्रद्धांजलि दे रहा है
जिनके परिवार वालों को पहले न जाने कितनी बार ही दुत्कारा।
सोमवार को छुट्टी कर, कितने ही short trip पर निकल गए,
जो बचे कुछ देश की हालत से बेख़बर, गलियों के कोने में नशे से धुत हैं पड़े।
क्या करें ज़नाब!
देश अब modern हो गया है,
लोग busy हो गए हैं।
अब वो देश पर मर मिटने का जुनून
पागलपन कहलाता है।
पुरुषों के समान हक़ माँगती हर औरत
Feminist कहलाती है।
वो जो देर रात काम कर घर आती है न,
उसे तो क्या क्या बुलाते हैं, अब कैसे बताऊँ?
चीन सीमा लांघ कितना ही आतंक क्यों न फैला ले,
शाहरुख़ की नयी फ़िल्म ने 100 करोड़ कमाया या नहीं, युवा पीढ़ी को तो इसकी पड़ी है।
हाँ बस इतना सा ही बदला है भारत,
बाक़ी तो सब आज भी वैसा ही है।
एक टुकड़े ज़मीन पर सत्तर साल पहले भी लड़ रहे थे,
आज भी लड़ रहे हैं।
ये मेरा, वो तेरा की जंग में जवान तब भी मर रहे थे,
देश, नदी, पहाड़, सब की ख़ातिर आज भी शहीद हो रहे हैं।
हरा, केसरिया, हर रंग की राजनीति पहले भी पुरज़ोर चलती थी,
गाय, बकरी, मुर्गी तक तो आज बस इसके छींटे आ गए हैं।
हाँ, भारत वहीँ का वहीँ है,
बस अंदाज़ नए से हैं।
धुंधली पड़ती कुछ आँखों ने एक स्वतन्त्र जमीं का ख़्वाब देखा था,
छोड़ गए वो हमारे हाथों में बागडोर
कि हम एक नए दीये से नवीन उजाला लाएंगे।
पर हमने तो केवल पुराने को ही recycle किया,
संविधान हो या समस्याएं, किसी को भी सरल नहीं किया।
किसान तो आज भी मर रहा है,
औरतें अब भी रो रही हैं,
गरीब आज भी भूखा है,
अमीर आज भी बेचैन है।
वक़्त तो लम्बा गुज़र गया,
पर भारत वहीँ का वहीँ है।
पर भारत वहीँ का वहीँ है।।

Advertisements
Writer's Clan

We, the society

‘Society’,
Is it a person or a group of people?
Or is it just another illusion as God?
Though fear is related to so many things,
Religion, caste, tradition, supernatural and mystic;
Society is one word which tops it all.
Who forms it? Who rules it?
Who makes the laws to abide by in it?
No one knows.
But behind every flutter of a short skirt,
Or every person trying to live on his own terms,
Somebody whispers,
Like a gust of wind flowing by;
‘Society’ is watching.
‘Society’ is criticizing.
From the breaths of every transgender
To the kisses of every bisexual,
Everyone who is different from a man or woman,
Ignoring the ones who don’t deserve to be human;
‘Society’ is counting,
‘Society’ is abusing.
Be it the loose flesh of a heavy body,
Or the bones poking from a lean sculpture,
All who are tall or short,
All who is fair or dark;
‘Society’ is noticing,
‘Society’ is laughing.
The girl there, oh she has stopped going out with her own brother,
The man there, oh he now avoids helping even a single girl.
Why?
Because one look and somebody judged,
The girl was too young to have a boyfriend;
Because one helping approach and somebody felt,
The man was too sweet to not be a flirt.
Who is this ‘society’?
Tracking our each step,
Measuring every word we say,
Knocking us at every fault,
With an invisible comment
From an unwritten rule book.
Who is it?
You?
Me?
We?
If you ever stared hard at the homosexuals,
Or avoided talking to someone just by looking at them,
You are society.
If you ever thought low of someone because of his broken English,
Or of someone’s old-fashioned attire,
You are society.
You are society in every moment you feel something is not according to you,
Someone is not the way as expected by you.
Learn that you don’t decide who lives freely here,
This world is yours and so is theirs.
Stop being the society.
Stop others from being it.
And someday, everyone will be doing what they wish to.
There will be no suicides, no hatred,
No judgments, no comments,
No fear, no deliracy;
No anxiety,
No society.

Writer's Clan

Favourite Poetry

Your colour may be fading,
Or just seem to lose its lustre
As the golden rays have set towards west.
But don’t let your heart shiver.
Your beauty is not only by the yellow tint on your cover,
It’s the shine from within
Which stays bright throughout sun and moon.
It cannot be violated by the vile of night,
It cannot be burnt by the rays of morning.
And no matter how many people
Read you,
Appreciate you,
Distort you,
Tear you,
You’ll forever be my favourite poetry.