All About the Lens

एक नज़र

Picture by Wajiha Haider

क्या ताक रही हैं तू इधर, ऐ ज़िंदगी;
क्या अपने गुरूर को इज़ाफा देने के लिए नज़र गड़ाई हैं
या मुझे दी गई नेमत पर तुझे लालच आई हैं?

Advertisements
Writer's Clan

Storms And Tranquility.

Part One.

He counted the lights in the urban city down the lane while I counted his scars. I wondered how he smiled so often with those heavy stitches on his lips. He said these were the consequences of bottling up too many secrets within himself. I always felt a very strong connection with him for we shared most of the cuts, those upon the soul. These scars were only for the body but on the inside, they were wounds that would rot me to death. He made my wounds shine over its cracks and told me how I was so beautiful with them on my skin. I used to believe that the world was dark, hiding deepest secrets behind every face. He told that it was the bright glint in my eyes that was eclipsed by the darkness and negative vibes of some undeserving people. I used to believe that my past followed me only to haunt me as I kept closing all doors to keep myself away from it, but he called me from behind a closed door and asked me to learn from my mistakes. I was a mess with all broken threads of trust, he was the magic that tied all knots to one that lead me to him. I sulked over the thought that I was better off alone with the fire within me. He took me to the darkest places where I learnt to become my own source of satisfaction. I was raised with the myth that a girl and a boy could have only a love tangent with each other. Here, I am standing on the top of the world having him for a lifetime as a friend. The two minds with a set of different thoughts where I felt we met by destiny and he claimed destiny was just an illusion.
“It’s our pain that found each other.” He said.

~Simran Riyaz

|instagram: @yourshishterr

Writer's Clan

पर भारत वहीँ का वहीँ है

आज़ादी के सत्तर वर्षों बाद,
तिरंगा आज भी हर छत पर गर्व से लहरा रहा है।
अपने व्यस्त जीवन से एक दिन निकाल,
हर भारतवासी शहीदों को याद कर,
भारतमाता को शीश नवा रहा है।
कितना वक़्त गुज़र गया,
कितनी सत्ताएँ पलट गयीं,
पर उन्नीस सौ सैंतालिस से दो हज़ार सत्रह तक,
कुछ तो बदलाव आये ही होंगे न?
आज 15 अगस्त केवल स्वन्त्रता दिवस नहीं रह गया है।
कुछ के लिए यह एक छुट्टी का दिन है, national holiday.
तो कुछ के लिए झंडे बेच एक वक़्त रोटी खाने का ज़रिया।
कोई मोर्चा निकाल देशभक्ति की आड़ में अपना ही उल्लू सीधा कर रहा है,
तो कोई महज़ एक दिन के लिए उन वीर जवानों को श्रद्धांजलि दे रहा है
जिनके परिवार वालों को पहले न जाने कितनी बार ही दुत्कारा।
सोमवार को छुट्टी कर, कितने ही short trip पर निकल गए,
जो बचे कुछ देश की हालत से बेख़बर, गलियों के कोने में नशे से धुत हैं पड़े।
क्या करें ज़नाब!
देश अब modern हो गया है,
लोग busy हो गए हैं।
अब वो देश पर मर मिटने का जुनून
पागलपन कहलाता है।
पुरुषों के समान हक़ माँगती हर औरत
Feminist कहलाती है।
वो जो देर रात काम कर घर आती है न,
उसे तो क्या क्या बुलाते हैं, अब कैसे बताऊँ?
चीन सीमा लांघ कितना ही आतंक क्यों न फैला ले,
शाहरुख़ की नयी फ़िल्म ने 100 करोड़ कमाया या नहीं, युवा पीढ़ी को तो इसकी पड़ी है।
हाँ बस इतना सा ही बदला है भारत,
बाक़ी तो सब आज भी वैसा ही है।
एक टुकड़े ज़मीन पर सत्तर साल पहले भी लड़ रहे थे,
आज भी लड़ रहे हैं।
ये मेरा, वो तेरा की जंग में जवान तब भी मर रहे थे,
देश, नदी, पहाड़, सब की ख़ातिर आज भी शहीद हो रहे हैं।
हरा, केसरिया, हर रंग की राजनीति पहले भी पुरज़ोर चलती थी,
गाय, बकरी, मुर्गी तक तो आज बस इसके छींटे आ गए हैं।
हाँ, भारत वहीँ का वहीँ है,
बस अंदाज़ नए से हैं।
धुंधली पड़ती कुछ आँखों ने एक स्वतन्त्र जमीं का ख़्वाब देखा था,
छोड़ गए वो हमारे हाथों में बागडोर
कि हम एक नए दीये से नवीन उजाला लाएंगे।
पर हमने तो केवल पुराने को ही recycle किया,
संविधान हो या समस्याएं, किसी को भी सरल नहीं किया।
किसान तो आज भी मर रहा है,
औरतें अब भी रो रही हैं,
गरीब आज भी भूखा है,
अमीर आज भी बेचैन है।
वक़्त तो लम्बा गुज़र गया,
पर भारत वहीँ का वहीँ है।
पर भारत वहीँ का वहीँ है।।

All About the Lens, Writer's Clan

At Peace

 

Snapchat-1944872212~2-3
Jamia Millia Islamia, New Delhi

 

Past through the maze of steels and bricks

I have come beyond the cradle of nature.

No raindrop kiss on my head,

No promise of a blissful lullaby,

Just my solitude, at peace.

Writer's Clan

Create A World

They say seven billion people reside here,

Gain strength with time and sometimes cry in fear,

Grow apples, oranges, and limes

And love the sheep they rear;

They know about the sweet and bitter fruits

Broken stems and torn apart roots,

Yet, celebration never loses its way

And faith grows like it could never sway;

Yet you ask all the whys

When you have witnessed smiles growing out of cries;

It isn’t the gold that becomes the mould for pleasure

Or the medals that pedal the cycle of felicity,

But the power to shower the belief

And create a new journey towards relief;

So, if you think about the thorns

And forget how they were sworn,

Take a deep breath and look inside you,

There will be a rainbow of green, yellow, red and blue,

Use this, and colour the grey areas into something new!